Entertainment & Music, Literature, Others, Poems

धरती के टुकड़े

धरती के टुकड़े  :- रखा जिसने नौ महीने तुझे उसके पेट मे, उस माँ के आँसू दिख गए, रो रही है ये धरती, क्या वो तेरी माँ नहीं ? बाँट दिया उसे, कर दिए उसके टुकड़े जिसे तू अपनी माँ ...